June 20, 2024

पूर्वांचल एक्सप्रेसवे: पूर्वांचल के विकास का एक्सप्रेसवे

purvanchal expressway

purvanchal expressway

“पूर्वांचल एक्सप्रेसवे” भारत के उत्तर प्रदेश के पूर्वांचल क्षेत्र में एक प्रमुख बुनियादी ढांचा परियोजना है। इस महत्वाकांक्षी एक्सप्रेसवे का उद्देश्य राज्य के पूर्वी हिस्से में कनेक्टिविटी बढ़ाना, आर्थिक विकास को बढ़ावा देना और परिवहन में सुधार करना है। यहां पूर्वांचल एक्सप्रेसवे की प्रमुख विशेषताएं और लाभ हैं:

पूर्वांचल एक्सप्रेसवे प्रमुख महामार्ग परियोजना

पूर्वांचल एक्सप्रेसवे प्रमुख महामार्ग परियोजना है | प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सुल्तानपुर जिले में 341 किलोमीटर लंबे पूर्वांचल एक्सप्रेसवे का उद्घाटन किया | जुलाई 2018 में आजमगढ़ में पीएम द्वारा इसकी आधारशिला रखे जाने के लगभग 3 साल बाद लॉन्च किया गया। 

अनुमानित 22,496 करोड़ रुपये की लागत वाली इस परियोजना को अविकसित पूर्वांचल क्षेत्र के लिए “विकास के वाहक” के रूप में बिल किया गया है। ख़ुशी की बात ये है कि केंद्र और राज्य सरकार ने इस महामार्ग परियोजना पर साथ मिलकर काम किया और समय सीमा के अंदर पूरा कर लिया | 

यह महामार्ग परियोजना, उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा पूरी की गई सबसे बड़ी बुनियादी ढांचा परियोजनाओं में से एक है | पूर्वांचल एक्सप्रेसवे प्रमुख महामार्ग परियोजना है जो उत्तर प्रदेश और बिहार के पूर्वांचल क्षेत्र को जोड़ेगी। इसका मुख्य उद्देश्य उत्तर प्रदेश के गोरखपुर से बिहार के पटना तक की यातायात को तेज़ करना है। 

उत्तर प्रदेश एक्सप्रेसवे औद्योगिक विकास प्राधिकरण (UPEIDA)

उत्तर प्रदेश एक्सप्रेसवे औद्योगिक विकास प्राधिकरण (UPEIDA) भी गोरखपुर लिंक एक्सप्रेसवे का निर्माण कर रहा है, जो गोरखपुर जिले के जैतपुर गाँव को आजमगढ़ जिले के सलारपुर गाँव में पूर्वांचल एक्सप्रेसवे से जोड़ेगा। 

पूर्वी यूपी के विकास को बढ़ावा देने के लिए पूर्वांचल एक्सप्रेसवे की योजना बनाई गई है। यह एक आठ-लेन बाइपास हाइवे है जो वाराणसी से लेकर गोरखपुर तक जाती है। इससे क्षेत्र के लोगों को अच्छी सड़क सुविधा मिलेगी और विकास को गति मिलेगी।

नौ जिलों को जोड़ेगी पूर्वांचल एक्सप्रेसवे

पूर्वांचल एक्सप्रेसवे राजधानी लखनऊ को गाजीपुर से जोड़ती है। पूर्वांचल एक्सप्रेसवे उत्तर प्रदेश के नौ जिलों – लखनऊ, बाराबंकी, अमेठी, सुल्तानपुर, अयोध्या, अंबेडकर नगर, आजमगढ़, मऊ और गाजीपुर से होकर गुजरता है – और जल्द ही वाराणसी-आजमगढ़ राजमार्ग से भी जुड़ जाएगा।

पूर्वांचल एक्सप्रेसवे को लखनऊ, अमेठी, सुल्तानपुर, आज़मगढ़ और ग़ाज़ीपुर जैसे पूर्वांचल क्षेत्र के महत्वपूर्ण शहरों और कस्बों को जोड़ने के लिए डिज़ाइन किया गया है। इस बढ़ी हुई कनेक्टिविटी से इन क्षेत्रों के बीच यात्रा का समय कम हो जाएगा और बाजारों, शैक्षणिक संस्थानों, स्वास्थ्य देखभाल सुविधाओं और नौकरी के अवसरों तक बेहतर पहुंच को बढ़ावा मिलेगा।

आर्थिक विकास:

एक्सप्रेसवे से माल की सुगम आवाजाही, व्यापार और उद्योगों को बढ़ावा देने और क्षेत्र में निवेश आकर्षित करके आर्थिक विकास को बढ़ावा मिलने की उम्मीद है। बेहतर कनेक्टिविटी से नए व्यवसायों और उद्योगों की स्थापना हो सकती है, जिससे स्थानीय निवासियों के लिए रोजगार के अवसर पैदा होंगे।

पर्यटन एवं सांस्कृतिक संवर्धन:

पूर्वाचल क्षेत्र सांस्कृतिक विरासत एवं ऐतिहासिक महत्व से समृद्ध है। एक्सप्रेसवे की बेहतर कनेक्टिविटी पर्यटन को बढ़ावा देगी, जिससे यात्रियों को क्षेत्र के सांस्कृतिक स्थलों, मंदिरों और अन्य आकर्षणों का पता लगाने का मौका मिलेगा। यह स्थानीय पर्यटन राजस्व और क्षेत्र की विरासत के बारे में जागरूकता में योगदान दे सकता है।

भीड़भाड़ कम होना:

एक आधुनिक और अच्छी तरह से डिज़ाइन की गई सड़क के रूप में, पूर्वांचल एक्सप्रेसवे से मौजूदा मार्गों पर यातायात की भीड़ कम होने की उम्मीद है। इससे न केवल स्थानीय निवासियों के लिए यात्रा अधिक सुविधाजनक हो जाएगी, बल्कि माल परिवहन की दक्षता में भी सुधार होगा, जिससे रसद लागत कम हो जाएगी।

कृषि लाभ:

एक्सप्रेसवे कृषि विकास को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। किसान अधिक आसानी से बाजारों तक पहुंच सकते हैं, जिससे वे अपनी उपज बेहतर कीमतों पर बेच सकेंगे। इसके अतिरिक्त, बेहतर कनेक्टिविटी से खाद्य प्रसंस्करण उद्योगों का विकास हो सकता है, जिससे कृषि उत्पादों का मूल्य और बढ़ जाएगा।

बुनियादी ढांचे का विकास:

एक्सप्रेसवे के निर्माण ने विश्राम क्षेत्रों, ईंधन स्टेशनों, ट्रक टर्मिनलों और सेवा सुविधाओं सहित संबंधित बुनियादी ढांचे के विकास के अवसर पैदा किए हैं। ये सुविधाएं समग्र यात्रा अनुभव को बढ़ाती हैं और यात्रियों और परिवहन ऑपरेटरों को आवश्यक सेवाएं प्रदान करती हैं।

यात्रा में आसानी:

पूर्वांचल एक्सप्रेसवे को उच्च गति वाली सड़क बनाने के लिए डिज़ाइन किया गया है, जो यात्रा के समय को कम करता है और यात्रा को अधिक आरामदायक बनाता है। यह आधुनिक बुनियादी ढांचा यात्रियों और माल दोनों के लिए सुरक्षित और अधिक कुशल यात्रा को प्रोत्साहित करता है।

आपातकालीन सेवाएँ और कनेक्टिविटी: एक्सप्रेसवे की बेहतर कनेक्टिविटी भी तेजी से आपातकालीन प्रतिक्रिया समय में योगदान कर सकती है। मार्ग के विभिन्न क्षेत्रों तक त्वरित पहुंच से चिकित्सा सहायता, कानून प्रवर्तन और आपदा राहत प्रयासों को लाभ हो सकता है।

पूर्वांचल एक्सप्रेसवे एक महत्वपूर्ण विकास परियोजना है जो कनेक्टिविटी को बढ़ाकर, आर्थिक विकास को बढ़ावा देने और जीवन की समग्र गुणवत्ता में सुधार करके पूर्वांचल क्षेत्र को बदलने की क्षमता रखती है। व्यापार, पर्यटन, कृषि और बुनियादी ढांचे के विकास पर इसका प्रभाव पर्याप्त होने की उम्मीद है, जिससे यह क्षेत्र की प्रगति का एक महत्वपूर्ण घटक बन जाएगा।