June 20, 2024

भाजपा सांसद रवि किशन: आइये जानते हैं उनके जीवन से जुडी कुछ ख़ास बातें

Ravi Kishan

Ravi Kishan

मनोरंजन की दुनिया के एक चर्चित कलाकार रवि किशन को हर कोई जानता है | एक कलाकार होने के साथ साथ रवि किशन गोरखपुर से सांसद भी हैं | जनता का प्रतिनिधि और एक कलाकार होने के नाते उनके बारे में हर कोई जानना चाहता है | तो आइये जानते हैं उनके जीवन से जुडी कुछ ख़ास बातें |

रवि किशन

रवि किशन का पूरा नाम रवि किशन शुक्ला है | इनका जन्म 17 जुलाई, 1969 को मुंबई में एक मध्यमवर्गीय परिवार में हुआ था। उन्होंने अपनी शिक्षा मुंबई के मीठीबाई कॉलेज में पूरी की | 5 भाई बहनो में रवि किशन सबसे छोटे हैं | रवि किशन की पढाई 12वीं तक हुई है | मूल रूप से रवि किशन पूर्वांचल के जौनपुर जिले से आते हैं | 

भारतीय फिल्म में रवि किशन के योगदान

तीन दशकों से अधिक के करियर के साथ, उन्होंने खुद को सिनेमा की दुनिया में सबसे बहुमुखी और प्रतिभाशाली अभिनेताओं में से एक के रूप में स्थापित किया है। कम उम्र से ही सिनेमा की दुनिया से प्रेरित होकर रवि किशन ने अभिनेता बनने का सपना संजोया था। उन्होंने अपनी शिक्षा मुंबई के मीठीबाई कॉलेज में पूरी की, जहाँ उन्होंने थिएटर में सक्रिय रूप से भाग लिया और अपने अभिनय कौशल को निखारा।

सिनेमा जगत में रवि किशन के करियर की शुरुआत 1992 में फिल्म “रामा ओ रामा” से हुई। हालांकि फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर कुछ खास प्रभाव नहीं डाला, लेकिन उनके प्रदर्शन ने उनकी क्षमता का प्रदर्शन करते हुए ध्यान आकर्षित किया। उन्होंने कड़ी मेहनत करना जारी रखा और जल्द ही “तेरे नाम” (2003), “लक” (2009), और “रावण” (2010) जैसी फिल्मों में अपनी भूमिकाओं के लिए पहचान हासिल की।

रवि किशन ने एक अभिनेता के रूप में अपनी बहुमुखी प्रतिभा का प्रदर्शन करते हुए हिंदी, भोजपुरी और तेलुगु सहित कई भाषाओं में काम किया है। उन्होंने अपने अभिनय से अमिट छाप छोड़ते हुए 250 से अधिक फिल्मों में अभिनय किया है। उनकी कुछ उल्लेखनीय फिल्मों में ‘मुक्काबाज’ (2017), ‘बाटला हाउस’ (2019) और ‘कुली नंबर 1’ (2020) शामिल हैं।

भारतीय फिल्म उद्योग में रवि किशन के योगदान को व्यापक रूप से पहचाना और सराहा गया है। उनके उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए उन्हें कई पुरस्कार मिले हैं। 2006 में, उन्होंने “प्राण जाए पर शान ना जाए” में अपनी भूमिका के लिए भोजपुरी फिल्म पुरस्कारों में सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का पुरस्कार जीता।

बिग बॉस और रवि किशन की लोकप्रियता

रवि किशन की लोकप्रियता तब और बढ़ गई जब साल 2006 रियलिटी शो “बिग बॉस” में नज़र आये | उनकी भागीदारी ने उन्हें अपार लोकप्रियता दिलाई और उन्हें एक घरेलू नाम बना दिया। उनके आकर्षक व्यक्तित्व ने, उनकी प्रतिभा के साथ, उन्हें एक बड़े पैमाने पर प्रशंसक बना दिया। इस प्रदर्शन से बॉलीवुड और क्षेत्रीय सिनेमा दोनों में अधिक अवसर पैदा हुए।

रवि किशन का राजनीति करियर 

रवि किशन की पहचान एक फ़िल्मी अभिनेता के साथ साथ एक राजनेता के रूप में भी है | साल 2014 में, वह भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में शामिल हो गए और उत्तर प्रदेश के गोरखपुर निर्वाचन क्षेत्र से सांसद चुने गए। लोकसभा में भी वे अपनी बात बड़ी प्रमुखता से रखते हैं | इसके अलावा, सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर उनकी महत्वपूर्ण उपस्थिति है, जहां वह अपने प्रशंसकों के साथ बातचीत करते हैं और अपनी परियोजनाओं के बारे में अपडेट साझा करते हैं।

उन्होंने अपने घटकों के कल्याण के लिए सक्रिय रूप से काम किया है और सामाजिक मुद्दों के बारे में मुखर रहे हैं। वह कई धर्मार्थ संगठनों से जुड़े रहे हैं, जो शिक्षा, स्वास्थ्य देखभाल और बाल कल्याण से संबंधित कारणों का सक्रिय रूप से समर्थन करते हैं।

एक मध्यमवर्गीय परिवार से एक प्रसिद्ध अभिनेता और राजनेता बनने तक रवि किशन की यात्रा वास्तव में प्रेरणादायक है। अभिनय के प्रति उनके जुनून, उनके समर्पण और बहुमुखी प्रतिभा के साथ मिलकर, उन्होंने दर्शकों के दिलों में एक विशेष स्थान अर्जित किया है। कई यादगार प्रदर्शनों और एक मजबूत ऑन-स्क्रीन उपस्थिति के साथ, रवि किशन ने लाखों लोगों का मनोरंजन करना और उन्हें प्रेरित करना जारी रखा है।

जैसा कि उन्होंने फिल्म उद्योग और राजनीतिक क्षेत्र दोनों में महत्वपूर्ण योगदान देना जारी रखा है, एक बहु-प्रतिभाशाली कलाकार और एक सामाजिक अधिवक्ता के रूप में रवि किशन की विरासत निस्संदेह आने वाले वर्षों में याद की जाएगी।