June 20, 2024

पूर्वांचल में परिवहन व्यवस्था: भाजपा सरकार में क्या कुछ बदला ? आइये जानते हैं

मोदी सरकार ने पूर्वांचल को विकसित करना महत्वपूर्ण मानते हुए कई योजनाएं शुरू किए हैं | पिछले कुछ वर्षों में पूर्वांचल क्षेत्र में परिवहन के विकास में महत्वपूर्ण बदलाव आए हैं, जिससे भारत के पूर्वी उत्तर प्रदेश में स्थित इस क्षेत्र की पहुंच और कनेक्टिविटी में बदलाव आया है। पूर्वांचल क्षेत्र, जिसमें वाराणसी, गोरखपुर, आज़मगढ़ और अन्य जिले शामिल हैं, ने सड़क मार्ग, रेलवे और हवाई यात्रा सहित परिवहन के विभिन्न तरीकों में प्रगति का अनुभव किया है।

पूर्वांचल का विकास:

योगी सरकार ने पूर्वांचल में बहुत सारा इंफ्रास्ट्रक्चर बनाया है, जिसमें सड़कें, राजमार्ग, पुल, पीने का पानी, बांध और बिजली शामिल हैं। इससे स्थानीय आर्थिक सुविधा, पर्यटन और सामरिक विकास में सुधार हुआ है.

पूर्वांचल में सड़क मार्ग का विकास

सड़क मार्ग:

पूर्वाचल क्षेत्र में सड़क बुनियादी ढांचे में पर्याप्त वृद्धि देखी गई है। राष्ट्रीय और राज्य राजमार्गों का विस्तार और सुधार किया गया है, जिसके परिणामस्वरूप क्षेत्र के भीतर और देश के अन्य हिस्सों से सुगम कनेक्टिविटी हुई है। इससे वस्तुओं, लोगों और सेवाओं की आसान आवाजाही में मदद मिली है, जिससे आर्थिक विकास को बढ़ावा मिला है। नए पुलों और फ्लाईओवरों के निर्माण से भी प्रमुख शहरों में यातायात की भीड़ कम हुई है।

राजमार्ग:

पूर्वांचल में राजमार्गों का विस्तार किया गया है और उनका रुख बदल दिया गया है. लोगों को बेहतर सड़क सुविधाएं मिली हैं और आसपास के गांवों और शहरों को आसानी से जोड़ा जा सकता है | पूर्वी क्षेत्र में भी ब्रिज बनाने और पुराने पुलों की मरम्मत करने से यातायात बढ़ा है.

पूर्वांचल एक्सप्रेसवे:

पूर्वांचल एक्सप्रेसवे प्रमुख महामार्ग परियोजना है जो उत्तर प्रदेश और बिहार के पूर्वांचल क्षेत्र को जोड़ेगी। इसका मुख्य उद्देश्य उत्तर प्रदेश के गोरखपुर से बिहार के पटना तक की यातायात को तेज़ करना है।

पूर्वी यूपी के विकास को बढ़ावा देने के लिए पूर्वांचल एक्सप्रेसवे की योजना बनाई गई है। यह एक आठ-लेन बाइपास हाइवे है जो वाराणसी से लेकर गोरखपुर तक जाती है। इससे क्षेत्र के लोगों को अच्छी सड़क सुविधा मिलेगी और विकास को गति मिलेगी।

प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना (PMGSY):

इस योजना से ग्रामीण इलाकों में सड़कों का निर्माण और मरम्मत किया जाएगा. पूर्वोत्तर क्षेत्र के गांवों को अच्छी सड़क सुविधा मिली है | यह योजना ग्रामीण क्षेत्रों में सड़कों का निर्माण और मरम्मत करती है. मुख्य लक्ष्य है शहरी क्षेत्रों को ग्रामीण क्षेत्रों से जोड़ना. इस योजना के तहत पूर्वांचल में भी कई सड़कें बनाई गई हैं, जिससे वहाँ के लोगों को सुरक्षित और आराम से यात्रा करने का मौका मिला है.

पूर्वांचल में रेलवे का विकास

पूर्वांचल क्षेत्र रेलवे द्वारा अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है, जिसमें प्रमुख रेलवे लाइनें वाराणसी और गोरखपुर जैसे शहरों से होकर गुजरती हैं। पिछले कुछ वर्षों में, रेलवे नेटवर्क को बढ़ाने के प्रयास किए गए हैं, जिससे बेहतर कनेक्टिविटी और यात्री सेवाओं में सुधार हुआ है। नई रेल सेवाओं की शुरूआत, रेलवे स्टेशनों के उन्नयन और रेल लाइनों के विद्युतीकरण ने इस क्षेत्र में रेल परिवहन के आधुनिकीकरण में योगदान दिया है। वाराणसी में, मेट्रो निर्माण जल्द ही शुरू होने वाला है और काशी विश्वनाथ मंदिर कॉरिडोर परियोजना पहले ही शुरू हो चुकी है। यहाँ की जनसंख्या को देखते हुए पूर्वांचल से देश के अलग अलग हिस्सों के लिए ट्रेन की संख्या को बढ़ाना |

पूर्वांचल में हवाई अड्डे का विकास

कुशीनगर, अयोध्या, गोरखपुर, वाराणसी और प्रयागराज के अलावां आजमगढ़ में हवाई मार्ग को विकसित किया जा रहा है |

प्रयागराज और कुशीनगर हवाई अड्डों ने परिचालन शुरू कर दिया है, और आजमगढ़, अयोध्या, चित्रकूट, झांसी और सोनभद्र में हवाई अड्डों के लिए काम चल रहा है।

कुशीनगर हवाईअड्डा परियोजना भगवान बुद्ध के जीवन के विभिन्न चरणों जैसे कुशीनगर, सारनाथ, बोधगया और कपिलवस्तु से जुड़े क्षेत्र को बाकी दुनिया से जोड़ेगी। पीएम मोदी ने कुशीनगर में एक अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे का उद्घाटन किया था, इसे दुनिया भर में बौद्ध समाज की भक्ति के लिए एक श्रद्धांजलि बताया था। 260 करोड़ रुपये की अनुमानित लागत से बनने वाले इस हवाईअड्डे से क्षेत्र की अर्थव्यवस्था को मजबूती मिलेगी।

हवाई कनेक्टिविटी:

इस क्षेत्र में हवाई अड्डों के विस्तार और विकास के साथ हवाई कनेक्टिविटी में महत्वपूर्ण सुधार देखा गया है। वाराणसी में लाल बहादुर शास्त्री अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा और गोरखपुर हवाई अड्डा इसके प्रमुख उदाहरण हैं। ये हवाई अड्डे अब घरेलू और सीमित अंतरराष्ट्रीय दोनों उड़ानों को संभालते हैं, जिससे क्षेत्र में पर्यटन और व्यापार को बढ़ावा मिलता है।

पूर्वांचल में जल मार्ग का विकास

पूर्वांचल में तमाम छोटी बड़ी नदिया बहती हैं | जल मार्ग का विकास यहाँ के लोगों के लिए एक उम्मीद की किरण जैसा है | पूर्वांचल में जल संरचनाओं का विकास महत्वपूर्ण है. नदी विकास के लिए पाइपलाइन, सड़क और सुरंगों का निर्माण किया गया है. इससे कृषि उत्पादकता बढ़ी है और सिंचाई और पानी की सुविधाओं में सुधार हुआ है.

नदियों का कटान पूर्वांचल कि एक बड़ी समस्या है | हर साल नदियों कि कटान के कारन आस पास रहने वाले लोगों को इसका सामना करना पड़ता है | मानसून शुरू होने वाला है | पूर्वांचल की नदियों का कटान तेजी से देखने को मिलेगा | सरकार को इसके लिए स्थायी समाधान खोजना चाहिए |
जल मार्ग का विकास नमामि गंगे के तहत होना तय किया गया है, लेकिन ये कितना सफल होता है ये तो आने वाला समय ही बताएगा |

शहरी परिवहन:

पूर्वाचल क्षेत्र के कई शहरों ने अपनी शहरी परिवहन प्रणालियों को बेहतर बनाने पर काम किया है। पहलों में सिटी बसों की शुरूआत, साइकिल-शेयरिंग कार्यक्रम और रिक्शा आधुनिकीकरण शामिल हैं। इन प्रयासों का उद्देश्य भीड़भाड़ को कम करना, पर्यावरण के अनुकूल परिवहन विकल्पों को बढ़ावा देना और शहरी जीवन की समग्र गुणवत्ता को बढ़ाना है।

बुनियादी ढांचे का विकास:

परिवहन बुनियादी ढांचे के विकास को प्रमुख राजमार्गों के साथ ट्रक टर्मिनलों, विश्राम क्षेत्रों और ईंधन स्टेशनों जैसी अन्य सुविधाओं द्वारा पूरक किया गया है। ये अतिरिक्त सामान और लोगों की सुचारू आवाजाही का समर्थन करते हैं, जिससे लंबी यात्राएं अधिक सुविधाजनक और कुशल हो जाती हैं।

भविष्य की योजनाएँ:

सरकार पूर्वांचल क्षेत्र के परिवहन बुनियादी ढांचे के विकास में निवेश जारी रखे हुए है। नियोजित परियोजनाओं में मौजूदा सड़क मार्गों का विस्तार, नए एक्सप्रेसवे का निर्माण और रेल और हवाई कनेक्टिविटी में और सुधार शामिल हैं। इन प्रयासों से आर्थिक विकास को बढ़ावा देने, निवेश को प्रोत्साहित करने और क्षेत्र के निवासियों के समग्र जीवन स्तर में वृद्धि होने की उम्मीद है।

निष्कर्षतः

पूर्वांचल क्षेत्र ने अपने परिवहन बुनियादी ढांचे के विकास में महत्वपूर्ण प्रगति की है। सड़क मार्ग, रेलवे और हवाई यात्रा में सुधार से न केवल कनेक्टिविटी बढ़ी है बल्कि क्षेत्र में आर्थिक विकास, व्यापार और समग्र विकास पर भी सकारात्मक प्रभाव पड़ा है। जैसे-जैसे आगे निवेश और परियोजनाएं क्रियान्वित होंगी, पूर्वांचल क्षेत्र में परिवहन क्षेत्र का विकास जारी रहने की संभावना है, जिससे निवासियों और आगंतुकों दोनों को समान रूप से लाभ होगा।

ये ख़ुशी की बात है कि वर्त्तमान सरकार पूर्वांचल को एक नया स्वरुप प्रदान करने की दिशा में अच्छा काम कर रही है | पूर्वांचल (पूर्वी उत्तर प्रदेश) क्षेत्र में कई परियोजनाएं चल रही हैं जो विभिन्न क्षेत्रों में विकास और सुविधाओं को प्रोत्साहित करने के लिए शुरू की गई हैं। लोगों को आने वाले दिनों में इस सरकार से काफी उमीदें हैं |