June 20, 2024

श्रावण मास 2023: पवित्र माह का प्रारंभ और समाप्ति दिन और महत्व

Shravan Maas 2023

Shravan Maas 2023

श्रावण मास 2023 या सावन का पवित्र महीना इस साल 4 जुलाई से शुरू होने वाला है और इस साल 31 अगस्त तक चलेगा। श्रावण का यह विशेष महीना 19 साल बाद लगभग 2 महीने तक जारी रहता है। श्रावण या सावन का पवित्र महीना हिंदुओं के लिए बहुत महत्व रखता है, और भगवान शिव को समर्पित है। यह दुनिया भर के लाखों हिंदू भक्तों की भक्ति, उपवास और उत्सव का समय है।

श्रावण 2023 प्रारंभ और समाप्ति तिथि

श्रावण मास हर साल भारत में मानसून के मौसम की शुरुआत के रूप में जुलाई और अगस्त के महीने में शुरू होता है। इस साल श्रावण मास 4 जुलाई से शुरू होकर 31 अगस्त तक चलने वाला है। इस प्रकार श्रावण मास 19 साल बाद लगभग अनोखे ढंग से 2 महीने मनाया जाएगा, यह 59 दिनों का होगा और हर साल चार के बजाय इस साल आठ सावन सोमवार हैं।

श्रावण या सावन सोमवार तिथि 2023

द्रिक पंचांग के अनुसार यहां सावन या श्रावण सोमवार की तिथियां हैं:

4 जुलाई 2023, मंगलवार – श्रावण प्रारंभ

10 जुलाई 2023, सोमवार – पहला श्रावण सोमवार व्रत

17 जुलाई 2023, सोमवार – दूसरा श्रावण सोमवार व्रत

18 जुलाई 2023, मंगलवार – श्रावण अधिक मास आरंभ

24 जुलाई 2023, सोमवार – तीसरा श्रावण सोमवार व्रत

31 जुलाई 2023, सोमवार – चतुर्थ श्रावण सोमवार व्रत

7 अगस्त 2023, सोमवार – पांचवां श्रावण सोमवार व्रत

14 अगस्त 2023, सोमवार – छठा श्रावण सोमवार व्रत

16 अगस्त 2023, बुधवार – श्रावण अधिक मास समाप्त

21 अगस्त 2023, सोमवार – सातवां श्रावण सोमवार व्रत

28 अगस्त 2023, सोमवार – आठवां श्रावण सोमवार व्रत

31 अगस्त 2023, गुरुवार – श्रावण समाप्त

श्रावण मास का महत्व

श्रावण हिंदू कैलेंडर में वर्ष का पांचवां महीना है। यह हिंदू कैलेंडर में एक महत्वपूर्ण महीना है, जो भगवान शिव को समर्पित है, इसलिए लोगों को उनकी कृपा और आशीर्वाद पाने का मौका मिलता है। इस महीने में हिंदू समुदाय के लिए बहुत महत्वपूर्ण पूजा, व्रत और धार्मिक कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं।

इस वर्ष श्रावण का विशेष महत्व है। 59 दिनों तक चलने वाला असामान्य श्रावण इस महीने को अतिरिक्त शुभ बनाता है। ज्योतिषीय गणना और हिंदू कैलेंडर के अनुसार, इस वर्ष अधिक मास या मल मास ने इस वर्ष श्रावण माह को बढ़ा दिया है।

कावड़ यात्रा

श्रावण माह में भगवान शिव की स्तुति के लिए कावड़ यात्रा निकाली जाती है, जिसमें लोग गंगाजल से शिवलिंग का श्रृंगार करते हैं। भगवान शिव और मां पार्वती को समर्पित इस महीने में सावन सोमवार व्रत के अलावा, कांवर यात्रा भी पवित्र श्रावण महीने का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। भगवा रंग के कपड़े पहने हुए भगवान शिव के भक्त, छोटे बर्तन जिसे कांवर कहते हैं, में पवित्र नदी से जल लेकर भगवान शिव से संबंधित पवित्र स्थान पर भोजन करते हुए चलते हैं।

श्रावण मास में व्रत एवं पूजन :

सोमवार का व्रत श्रावण मास का सबसे महत्वपूर्ण व्रत है। इस दिन लोग शिवलिंग की पूजा करके धूप, बेलपत्र, फूल और फल चढ़ाते हैं। श्रावण मास में सोमवार का व्रत करना बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि इसे करने से भगवान शिव का आशीर्वाद प्राप्त होता है। इस माह श्रावण के सोमवार और व्रत-उपवास भी हैं। इसके अलावा श्रावण के सोमवार को भी शिव की पूजा की जाती है।

श्रावण में अनुष्ठान और परंपराएँ

श्रावण के पवित्र महीने में, भक्त मंदिर और अन्य सहयोगी धार्मिक स्थानों पर भगवान शिव की पूजा करते हैं। वे शिवलिंग की पूजा करके, गंगा जल से स्नान करके और मंदिरों में मंत्र जाप करके आशीर्वाद पाने की कोशिश करते हैं। श्रावण माह में भक्त घर पर जरूरतमंदों को दान, विशेषकर भोजन और ध्यान की सामग्री देते हैं।

श्रावण मास में त्यौहार:

श्रावण माह में कई महत्वपूर्ण त्यौहार मनाये जाते हैं। महीने की शुरुआत में नाग पंचमी मनाई जाती है, जिसमें भगवान शेषनाग की पूजा की जाती है। फिर रक्षाबंधन पर भाई-बहन एक-दूसरे को आशीर्वाद देने आते हैं। इसके बाद आता है भगवान कृष्ण का जन्मोत्सव कृष्ण जन्माष्टमी। हरितालिका तीज श्रावण माह के अंत में मनाया जाता है, जो सौभाग्य और धर्मपरायणता का प्रतीक है।

श्रावण मास की घटनाएँ:

श्रावण में कई अन्य लोकप्रिय कार्यक्रम भी होते हैं। श्रावण माह में भी भगवान कृष्ण की भक्तिमय संगीत सभाएं होती हैं, जो आनंद और आत्मीयता को जोड़ती हैं। इसके अलावा श्रावण माह में मेले और जागरण का भी आयोजन किया जाता है। इन मेलों में भक्त एकत्रित होकर भजन गाते हैं और भगवान से आशीर्वाद की प्रार्थना करते हैं।

निष्कर्ष

हिंदू धर्म में श्रावण मास का बहुत महत्व है। इस माह हमें अपनी संस्कृति और आध्यात्मिकता का विकास करना चाहिए। हम भगवान की कृपा प्राप्त करने के लिए अपने मन, शरीर और आत्मा को श्रावण माह की पूजा, व्रत और धार्मिक कार्यक्रमों में लगा सकते हैं। यह महीना हमें भाईचारे, प्यार और एकजुटता की सीख देता है। यही कारण है कि हमें श्रावण माह का सम्मान करना चाहिए और इसका उपयोग अपने जीवन में सुख और समृद्धि लाने के लिए करना चाहिए।

ये भी जाने :

रक्षा बंधन 2023 कब है?; तिथि, मुहूर्त और तैयारी